Uttarkashi Tunnel Accident Live: टनल में फंसी 40 जिंदगियों को बचाने की जंग जारी, दुर्घटनास्थल पर श्रमिकों का प्रदर्शन शुरू

Uttarkashi Tunnel Accident Live: सभी लोगों को जल्द बचा लेंगे- एसपी

उत्तरकाशी सुरंग हादसे के बाद चल रहे बचाव अभियान पर उत्तरकाशी के एसपी अर्पण यदुवंश ने कहा कि एडवांस मशीनें यहां हैं और हम जल्द ही सुरंग के अंदर फंसे सभी लोगों को बचा लेंगे. बचाव अभियान पूरे जोरों पर चल रहा है.

Uttarkashi Tunnel Accident Live: जल्द ही ड्रिलिंग का काम होगा शुरू

उत्तरकाशी जिले के सिल्क्यारा टनल में राहत एवं बचाव के लिए भारी बरमा ड्रिलिंग मशीनें चिन्यालीसौड़ हेलीपैड पर पहुंच गई हैं. इन्हें जोड़ा जा रहा है. जल्द ही ड्रिलिंग का काम शुरू हो जाएगा.

Uttarkashi Tunnel Accident Live: भारी बरमा ड्रिलिंग मशीनें पहुंचीं

डीजीपी अशोक कुमार ने एएनआई को बताया कि उत्तरकाशी जिले के सिल्क्यारा सुरंग में राहत और बचाव के लिए भारी बरमा ड्रिलिंग मशीनें चिन्यालीसौड़ हेलीपैड पर पहुंच गई हैं. इन्हें जोड़ा जा रहा है. जल्द ही ड्रिलिंग का काम शुरू हो जाएगा. डीजीपी ने सभी लोगों से अनुरोध किया है कि धैर्य और विश्वास रखें, जल्द ही सभी श्रमिकों को सुरक्षित बचा लिया जाएगा.

Uttarkashi Tunnel Accident Live: दुर्घटनास्थल पर श्रमिकों का विरोध प्रदर्शन शुरू

उत्तरकाशी सुरंग हादसा: दुर्घटनास्थल पर श्रमिकों का विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है, जहां राहत और बचाव कार्य जारी है. 

Uttarakhand Tunnel Accident Live: 40 मजदूरों को बचाने के लिए बचाव अभियान जारी

सिल्कयारा सुरंग से सुबह-सुबह की तस्वीरें जहां फंसे हुए 40 मजदूरों को बचाने के लिए बचाव और राहत अभियान चल रहा है. 

Uttarakhand Tunnel Accident Live: 40 मजदूरों को बचाने के लिए बचाव अभियान जारी

सिल्कयारा सुरंग से सुबह-सुबह की तस्वीरें जहां फंसे हुए 40 मजदूरों को बचाने के लिए बचाव और राहत अभियान चल रहा है. 

Uttarkashi Tunnel Accident Live: ड्रिलिंग की गति है धीमी

डीजीपी अशोक कुमार ने एएनआई को बताया कि सिल्क्यारा सुरंग में राहत और बचाव कार्य जारी है. प्राकृतिक बाधाओं के कारण ड्रिलिंग की गति धीमी है. आज केंद्रीय एजेंसियों द्वारा वायुसेना की मदद से भारी बरमा ड्रिलिंग मशीनें लाने का प्रयास किया जा रहा है, जिससे बचाव कार्य में तेजी आएगी. हम जल्द ही सभी श्रमिकों को सुरक्षित बचा लेंगे.

Uttarkashi Tunnel Accident Live Update: उत्तराखंड में यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर निर्माणाधीन सिलक्यारा सुरंग के एक हिस्से के ढहने से पिछले चार दिनों से उसके अंदर 40 मजदूर फंसे हुए हैं. श्रमिकों को बाहर निकालने की कोशिशें लगातार जारी हैं. बुधवार को युद्ध स्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी रहा. 

चारधाम ऑल वेदर सड़क परियोजना के तहत निर्माणाधीन सुरंग का सिलक्यारा की तरफ से मुहाने से 270 मीटर अंदर करीब 30 मीटर का हिस्सा रविवार को भूस्खलन से ढह गया था और तब से श्रमिक उसके अंदर फंसे हुए हैं. उन्हें निकालने के लिए युद्वस्तर पर बचाव एवं राहत अभियान चलाया जा रहा है. सीएम पुष्कर सिंह धामी पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए हैं.

सुरंग में फंसे सभी श्रमिक सुरक्षित बताए जा रहे हैं जिन्हें पाइप के जरिए लगातार ऑक्सीजन, पानी, सूखे मेवे सहित अन्य खाद्य सामग्री, बिजली, दवाइयां आदि पहुंचाई जा रही हैं. इस बीच अंदर फंसे श्रमिकों में से एक गब्बर सिंह नेगी से उनके पुत्र आकाश ने पाइप के जरिए मंगलवार को बातचीत की जिससे उसके साथ ही अन्य श्रमिकों के परिजनों को भी राहत मिली.

कोटद्वार के निकट बिशनपुर के रहने वाले नेगी के पुत्र आकाश ने पीटीआई को बताया, ‘‘मुझे कुछ सेकेंड के लिए उस पाइप के जरिए अपने पिता से बात करने की अनुमति मिली जिससे सुरंग में फंसे श्रमिकों को ऑक्सीजन भेजी जा रही है.’’

यह पूछे जाने पर कि उनके पिता ने उनसे क्या बातचीत की, इस पर आकाश ने कहा, ‘‘उन्होंने बताया कि वे सभी सुरक्षित हैं. उन्होंने हमसे कहा कि चिंता नहीं करें और बताया कि कंपनी उनके साथ है.’’

रविवार सुबह सुरंग के एक हिस्से के ढहने से उसमें अन्य श्रमिकों के साथ पिता के फंसने की सूचना मिलने पर आकाश अपने चाचा महाराज सिंह नेगी तथा तीन अन्य लोगों के साथ कोटद्वार से मौके पर पहुंचे हैं. फंसे श्रमिकों की सलामती के लिए एक स्थानीय पुजारी ने मौके पर पूजा भी संपन्न कराई गई है.

Leave a Comment

Scroll to Top