UP News: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुई 56 से अधिक छात्राएं, अस्पताल में भर्ती

Aligarh News: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में सर सैयद डे के जश्न के दौरान खाना खाने के बाद तकरीबन 56 से ज्यादा छात्राएं बीमार हो गई. जिन्हें जवाहरलाल नेहरू मेडिकल में भर्ती कर इलाज कराया गया.

Food Poisoning in AMU: अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में सर सैयद डे के जश्न में खाना खाने के बाद अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की कई दर्जन छात्राएं फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गई. बताया जा रहा है कि खाना खाने के बाद अचानक छात्राओं को उल्टियां हुई और फिर छात्राओं की तबीयत खराब होने लगी. छात्राओं की तबियत ख़राब होता देख AMU प्रशासन हरकत में आ गया और आनन-फ़ानन में छात्राओं को इलाज के लिए जवाहरलाल नेहरू मेडिकल में भर्ती कराया गया. जहां उनका इलाज चल रहा है, वहीं इस घटना पर अभी AMU के किसी अधिकारी का बयान सामने नहीं आया है.

जानकारी देते हुए फूड प्वाइजनिंग का शिकार हुई छात्राओं ने बताया कि वह सर सैयद डे के जश्न में शामिल हुई थी और उन्होंने अपने हॉल में खाना खाया था. खाना खाने के कुछ देर बाद ही छात्राओं को उल्टियां होने लगी और उनकी तबीयत अधिक खराब होने लगी, छात्राओं का कहना है कि यह फूड प्वाइजनिंग है और इसमें 56 से अधिक छात्राएं इसका शिकार हुई हैं. अभी सभी छात्राओं को जेएन मेडिकल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है और यहीं उनका इलाज चल रहा है.डिनर के बाद बीमार हुई छात्राएंमामले पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के पीआरओ उमर पीरजादा ने बताया कि AMU एक रेजिडेंशियल यूनिवर्सिटी है और मंगलवार को एक बहुत बड़ा त्योहार सर सैयद डे मनाया जा रहा था. इस दौरान ट्रेडिशनल डिनर हर हॉल में ऑर्गेनाइज हुआ. डिनर के बाद अजीजुल निशा हॉल से कुछ छात्राओं ने इस संबंध में शिकायत की कि उनको खाना खाने के बाद कुछ समस्याएं आ रही हैं.

विश्वविद्यालय प्रशासन ने फूड प्वाइजनिंग की बात को नकाराउन्होंने बताया कि जानकारी सामने आते ही इसे तत्काल संज्ञान में लेते हुए वहां के प्रशासन ने छात्राओं जेएन मेडिकल कॉलेज में प्राथमिक उपचार के लिए भेजा गया. इसके पश्चात उन्हें वहां से हॉल भेज दिया गया. किसी भी छात्र को भर्ती करने की आवश्यकता नहीं महसूस हुई. उल्टी और पेट दर्द की कुछ समस्या थी. इसको नजर में रखते हुए विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर, डीएसडब्ल्यू और अन्य सदस्य वहां पर जेएन मेडिकल कॉलेज पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया. उन्होंने बताया कि वहां पर जो भी मौजूद टीम थी उसको आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए, इस संबंध में जांच के लिए तीन सदस्य समिति का गठन कर दिया गया है

Leave a Comment

Scroll to Top