New Parliament Building: ‘ज्योतिषी की सलाह पर बनाया गया नया संसद भवन’, सामना में संजय राउत का तंज- 10 साल बाद यहां कोई टिकता नहीं

New Parliament Building: पीएम मोदी ने इसी साल मई में नए संसद भवन का उद्घाटन किया था. इसके बाद से ही राजनीतिक गलियारों में चर्चा जोरों पर है.

Sanjay Raut On New Parliament: शिवसेना (यूबीटी) के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने नए संसद भवन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला किया है. शिवसेना के मुखपत्र सामना में उन्हें एक लेख के जरिए कहा, “ऐतिहासिक संसद भवन पर तो ताला लग गया लेकिन नई इमारत में इतिहास बन पाएगा? इस तरह की महान शख्सियत आज कहां हैं?”

उन्होंने कहा, “पुराना संसद भवन दिल्ली में शान से खड़ा है और कम से कम 100 सालों तक इस इमारत को कुछ नहीं होता लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के मन में आया और इस ऐतिहासिक इमारत को ताला लगा दिया.” नए संसद भवन के बारे में अपने अनुभव को शेयर करते हुए उन्होंने कहा, “जब मैं वहां पहुंचा तो दुविधा थी. नए संसद भवन में लोकसभा और राज्यसभा के लिए एक ही दरवाजा है.”

‘तिजोरी से 20 हजार करोड़ रुपये उड़ा दिए’

संजय राउत ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए आगे कहा, “पुराना संसद भवन व्यवस्थित है लेकिन उन्होंने सामने एक सौत खड़ी कर दी और सरकारी तिजोरी से 20 हजार करोड़ रुपये लुटा दिए. संसद भवन एक प्रेरणादायक और तेजस्वी इमारत होती है. ऐसी इमारतें जर्जर नहीं होतीं. उन्हें अनुपयोगी घोषित करना यानी भारत माता को वृद्ध बताकर बृद्धाश्रम में डालने जैसा है.’

‘अंधश्रद्धा और अंधभक्तों के घरे में घूम रही दिल्ली सरकार’

उन्होंने आगे कहा, “दिल्ली की सरकार अंधश्रद्धा और अंधभक्तों के घेरे में घूम रही है. देश चलाने वालों के मन में अंधश्रद्धा, ग्रह और कुंडली का प्रभाव है. मौजूदा संसद भवन 10 सालों बाद आपके लिए शुभ नहीं होगा. 10 साल बाद यहां कोई टिकता नहीं तो ऐसे में नए संसद भवन का निर्माण कराओ. इस तरह की ज्योतिषी सलाह मानकर नए संसद भवन का निर्माण किया गया.”

‘गोमुखी इमारत बनवाई’

शिवसेना सांसद ने कहा, “नई इमारत गोमुखी हो इस तरह की सलाह भी ज्योतिषियों ने दी थी. उसी के मुताबिक नई इमारत का निर्माण कराया. एक तरफ हमारे वैज्ञानिक चांद पर पहुंच गए और उसी देश के नेता सत्ता न चली जाए इस डर से नए संसद भवन का निर्माण कराते हैं. दिल्ली में ज्योतिषाचार्य और बुआ-बाबाओं की चलती है.”

Leave a Comment

Scroll to Top