KL Rahul: केएल राहुल ने निराश होकर दिया बड़ा बयान, आखिर जुबां पर आ ही गई दिल की बात!

IND vs AUS 2nd ODI: टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 3 मैचों की वनडे सीरीज जीत ली है. वर्ल्ड कप से पहले ये सीरीज काफी अहम है, जिसमें भारतीय खिलाड़ियों ने बल्ले और गेंद, दोनों से कमाल दिखाया. टीम के कार्यवाहक कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने हालांकि एक बात को लेकर निराशा जाहिर की.

KL Rahul Statement, IND vs AUS 2nd ODI : भारतीय क्रिकेट टीम ने रविवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज का दूसरा वनडे 99 रनों से जीता. वर्षा बाधित इस मुकाबले में टीम इंडिया के बल्लेबाजों ने जैसे कोहराम सा मचा दिया और 399 रन का बड़ा स्कोर खड़ा किया. बारिश के कारण ऑस्ट्रेलिया को 33 ओवर में 317 रन का लक्ष्य मिला जिसका पीछा करते हुए मेहमान टीम 28.2 ओवर में 217 रन पर ऑलआउट हो गई. इस तरह भारत ने 3 मैचों की वनडे सीरीज भी अपने नाम कर ली. टीम के कार्यवाहक कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने शानदार जीत के बावजूद एक बात को लेकर निराशा जाहिर की.

इंदौर में टीम इंडिया का कोहराम

इंदौर के होल्कर स्टेडियम में खेले गए सीरीज के दूसरे वनडे में भारत ने 5 विकेट पर 399 रन का विशाल स्कोर बनाया. ओपनर शुभमन गिल (104), श्रेयस अय्यर (105) ने शतक जमाए जिसके बाद सूर्यकुमार यादव ने 37 गेंदों पर 72 रनों की नाबाद तूफानी पारी खेली. कप्तान केएल राहुल ने 52 रनों का योगदान दिया. इसके बाद बारिश के कारण ऑस्ट्रेलिया को 33 ओवर में 317 रन का टारगेट मिला, जिसका पीछा करते हुए टीम 28.2 ओवर में 217 रन पर ऑलआउट हो गई. ऑस्ट्रेलिया के लिए सीन एबॉट ने सबसे ज्यादा 54 रन बनाए जबकि डेविड वॉर्नर ने 53 रन का योगदान दिया. भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा ने 3-3 विकेट लिए.

हर खिलाड़ी को अपने काम पर ध्यान देना जरूरी

टीम इंडिया के कार्यवाहक कप्तान केएल राहुल ने जीत के बाद कहा, ‘सुबह जब मैंने विकेट देखा तो ये सोचा नहीं था कि इतना स्पिन करेगा. बोर्ड पर 400 लगाने से आपको आत्मविश्वास मिलता है. वास्तव में ये कोई हमारा निर्णय नहीं है. हमारा काम स्पष्ट है. प्लेइंग-11 में चुने जाने वाले हर शख्स को अपने काम पर ध्यान देने की जरूरत है. हर कोई इससे गुजर चुका है, आपको बेहतर होते रहना होगा और मौकों का इंतजार करना होगा.’

फील्डिंग को लेकर निराश हुए कप्तान

राहुल ने टीम की फील्डिंग को लेकर निराशा जाहिर की. उन्होंने कहा, ‘हमने कुछ कैच छोड़े हैं, लेकिन दूधिया रोशनी में फील्डिंग करना शारीरिक रूप से चुनौतीपूर्ण है. टीम के कोच हमें फिट रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. कभी-कभी ये गलतियां हो जाती हैं. प्रतिबद्धता हमेशा रहती है, हम इससे सीखेंगे, इसे दूर करेंगे और अगले मैच में बेहतर बनेंगे. वर्ल्ड कप अब केवल कुछ ही सप्ताह दूर है, सभी खिलाड़ी इसका हिस्सा बनना चाहेंगे. उन्हें चुनौतियों से अभ्यस्त होने की जरूरत है, वे मैदान पर वापसी के लिए उत्सुक होंगे.’

Leave a Comment

Scroll to Top