Khalistan ISI: आईएसआई का प्लान डिकोड, कनाडा में खालिस्तानियों की मदद कर QUAD में दरार डालने की खतरनाक साजिश

India-Canada Khalistan Row:  ISI कनाडा में उन सभी पार्टियों को फंड कर रही है, जिनसे भारत के खिलाफ बयान दिलाया जा सके. कनाडा FIVE EYE का सदस्य देश है.  FIVE EYE ग्रुप में कनाडा के साथ-साथ ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और ब्रिटेन शामिल हैं, जो आपस में खुफिया जानकारी साझा करते हैं. 

India-Pakistan Canada: जिस तरह से भारत (Bharat) की साख अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ रही है, उससे पाकिस्तान (Pakistan) परेशान है. पिछले दिनों भारत में हुए सफल G-20 सम्मेलन से भी पाकिस्तान के पेट में दर्द हो रहा है. सुरक्षा जानकारों के मुताबिक, ऐसे में पाकिस्तान कनाडा में रह रहे खालिस्तानियों की मदद से भारत की बढ़ती साख को नुकसान पहुंचाने में लगा है. 

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI पिछले कुछ महीनों में जिस तरह से कनाडा के सक्रिय है और खालिस्तानियों के साथ लगातार बैठक कर रही है उससे भी पाकिस्तान के इरादे साफ हो रहे हैं.

क्या है ISI का गेम प्लान

पाकिस्तान की ISI लगातार कनाडा में बसे खालिस्तानियों को फंडिंग करने के साथ-साथ साथ UK, USA और कनाडा में स्थित भारतीय दूतावासों के सामने हिंसक प्रदर्शन करा रही है. भारतीय दूतावासों में काम करने वाले डिप्लोमेट की तस्वीरों के साथ साथ उनसे जुड़ी पर्सनल डिटेल्स भी खालिस्तानियों तक पहुंचाई जा रही हैं.  ISI कनाडा में उन सभी पार्टियों को फंड कर रही है, जिनसे भारत के खिलाफ बयान दिलाया जा सके. कनाडा FIVE EYE का सदस्य देश है.  FIVE EYE ग्रुप में कनाडा के साथ-साथ ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, अमेरिका और ब्रिटेन शामिल हैं, जो आपस में खुफिया जानकारी साझा करते हैं. 

जानकारों के मुताबिक कनाडा और भारत के रिश्ते खराब होने का असर FIVE EYE पर पड़ सकता है. FIVE EYE ग्रुप में शामिल USA और ऑस्ट्रेलिया QUAD का मेंबर हैं. ऐसे में कनाडा अपने संबंधों का इस्तेमाल कर इन देशों के जरिये भारत पर दबाव बना सकता है. कनाडा इन देशों से खुफिया रिपोर्ट साझा करने पर रोड़ा डलवा सकता है.

रैली में हो सकती है हिंसा

भारतीय खुफिया एजेंसियों ने इस बात की आशंका जताई है कि कनाडा में 25 सितंबर को भारत के खिलाफ होने वाली खालिस्तान समर्थित रैली में हिंसा हो सकती है. कनाडा में रह रहे खालिस्तानियों ने 25 सितंबर को भारतीय हाई कमीशन के सामने प्रदर्शन करने की योजना बनाई है.

कनाडा के होने वाले इन हिंसक प्रदर्शन के चलते कनाडा में तैनात भारतीय डिप्लोमेट को खास तरह से सावधान रहने को कहा गया है. कनाडा में रह रहे 20 से ज्यादा खालिस्तानी पाकिस्तान की ISI के साथ मिलकर भारत के खिलाफ रच रहे हैं.

भारत ने कनाडा को 9 ऐसे खालिस्तान समर्थित आतंकी संगठनों की भी लिस्ट दी थी जो कनाडा में रहकर लगातार पंजाब में हिंसा और आतंकी साजिश को अंजाम दे रहे हैं. भारत ने पहले भी ऐसे सभी खालिस्तानियों की लिस्ट कनाडा, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका और UK से साझा की थी जो लगातार भारत के खिलाफ विदेशी जमीन से साजिश रच रहे हैं. लेकिन इसके बावजूद ये सभी सरकारें भारत की रिपोर्ट पर कार्रवाई करने से बचती रही हैं.

ट्रूडो सरकार ने नहीं लिया एक्शन

कनाडा के PM जस्टिन ट्रुडो कनाडा के खालिस्तान समर्थित पार्टी के दबाव के चलते और अपनी सरकार को बचाने के लिए भारत पर बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं.

भारत सरकार ने कई बार कनाडा सरकार को उसके देश में सक्रिय खालिस्तानी और खालिस्तान समर्थित आतंकियों की लिस्ट सौंपी है. लेकिन जस्टिन ट्रुडो की सरकार ने उस पर कोई एक्शन नहीं लिया. 2018 में भी जब जस्टिन ट्रुडो भारत दौरे पर आए थे तो भारत सरकार ने निज्जर समेत 9 खालिस्तानियों की लिस्ट सौंपी थी.

NIA की टीम पिछले दिनों खालिस्तानियो पर कार्रवाई के लिए कनाडा गई थी, उस समय भी कनाडा की सरकार ने NIA की तरफ से दिए गए सबूतों पर कोई एक्शन नहीं लिया. 

Leave a Comment

Scroll to Top