IND vs SA: दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टीम इंडिया कर रही थी सेमीफाइनल और फाइनल की तैयारी, रवींद्र जडेजा ने किया खुलासा

India vs South Africa: ओस के प्रभाव के बावजूद दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था. हालांकि, टॉस के वक्त उनके इस फैसले ने सभी को हैरान कर दिया था.

India vs South Africa, Ravindra Jadeja: 2023 वनडे वर्ल्ड कप के लीग स्टेज में अब तक सभी आठ मैचों में एकतरफा जीत दर्ज करने से भारतीय टीम के स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा काफी उत्साहित हैं. रविवार को जीत के बाद जडेजा ने बताया कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच में टीम इंडिया नॉकआउट की तैयारी कर रही थी. साथ ही उन्होंने कहा कि नॉकआउट स्टेज से पहले इस तरह के प्रदर्शन से विरोधी टीमें भारत के खिलाफ दबाव में रहेंगी. 

पिछले मैच में श्रीलंका को 302 रन से हराने के बाद भारत ने ईडन गार्डन पर दक्षिण अफ्रीका को 243 रन से मात देकर अपना अजेय अभियान जारी रखा. अब टीम इंडिया को अपना आखिरी लीग मैच 12 नवंबर को नीदरलैंड के खिलाफ खेलना है. भारत के पांच विकेट पर 326 रन के जवाब में दक्षिण अफ्रीका की टीम 27.1 ओवर में सिर्फ 83 रनों पर ढेर हो गई. 

जानिए प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या कुछ बोले रवींद्र जडेजा

रवींद्र जडेजा ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा, “यह अच्छी बात है कि हमने सारे मैच एकतरफा जीते हैं, क्योंकि इससे सामने वाली टीम पर पहले ही दबाव बन जाता है. इससे उसका प्रदर्शन खुद ब खुद बिगड़ जाता है. नॉकआउट से पहले तो यह बहुत अच्छा है, क्योंकि इससे विरोधी टीम एक मनोवैज्ञानिक दबाव में रहेगी.”

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 5 विकेट लेने वाले जडेजा ने कहा कि टीम का लक्ष्य टूर्नामेंट के अंत तक इस लय को बनाये रखने का है. उन्होंने कहा, “हम मैच दर मैच रणनीति बनाते हैं. नॉकआउट चरण अहम है, लेकिन टीम हर विभाग में एक ईकाई के रूप में अच्छा खेल रही है और इस लय को सेमीफाइनल फाइनल में जारी रखने की कोशिश करेंगे.”

जडेजा ने इस पिच पर 300 के पार स्कोर बनाने का श्रेय शतक जड़ने वाले विराट कोहली और मध्यक्रम के बल्लेबाजों को दिया. उन्होंने कहा, “दक्षिण अफ्रीका की गेंदबाजी के समय विकेट में टर्न ज्यादा था, लेकिन बाद में यह बल्लेबाजी के लिये आसान हो गया था. विराट और मध्यक्रम को श्रेय जाता है कि उन्होंने धीमे और कम उछाल वाले विकेट पर अच्छी बल्लेबाजी की. वैसे हम मानसिक रूप से इसके लिये तैयार थे, क्योंकि ईडन की पिच के बारे में पता था.”

जडेजा ने तीनों तेज गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा, किसी भी प्रारूप में तेज गेंदबाज ऊपर विकेट ले लेते हैं तो स्पिनरों के लिये थोड़ा आसान हो जाता है. वह अपना समय लेकर वैरिएशन दिखा सकता है. यह अच्छा है कि हमारे तेज गेंदबाज अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. 

‘भारत की जर्सी पहनकर जब खेलते हैं तो हर दिन बर्थडे होता है’

कोहली के जन्मदिन की वजह से क्या टीम अतिरिक्त प्रेरणा के साथ खेल रही थी, यह पूछने पर उन्होंने कहा, “भारत की जर्सी पहनकर जब खेलते हैं तो हर दिन बर्थडे होता है, क्योंकि बहुत कम लोगों को मौका मिलता है यह जर्सी पहनने का. बर्थडे के दिन कोई टीम को जिता रहा है तो इससे अच्छी बात क्या हो सकती है.”

सचिन तेंदुलकर के 49 वनडे शतकों की बराबरी के कोहली के रिकॉर्ड के बारे में उन्होंने मजाकिया लहजे में कहा, “49 या 50 जो भी है, घी थाली में ही गिर रहा है. अच्छा है. विश्व कप भारत में हो रहा है तो रिकॉर्ड बनते रहना हमारे लिये अच्छा है. नजर मत लगाना. विराट के लिये खास शतक होगा, क्योंकि इस विकेट पर 260 का स्कोर भी ठीक होता. ऐसे समय में स्ट्राइक रोटेट करना, बाउंड्री लगाना और नाबाद रहना बहुत बड़ी उपलब्धि थी.”

इस कारण टीम इंडिया ने किया पहले बल्लेबाजी का फैसला

अपने प्रदर्शन के बारे में उन्होंने कहा, “पिछले तीन चार मैचों से बल्लेबाजी और गेंदबाजी में योगदान दे रहा हूं. महत्वपूर्ण मैचों में योगदान देने से आगे के मैचों को लेकर आत्मविश्वास बढ़ा है. एक हरफनमौला का रोल यही होता है कि कठिन हालात में 30 से 40 रन बनाए और गेंदबाजी में साझेदारी तोड़े. मेरी कोशिश टीम की जरूरत के अनुसार प्रभावी प्रदर्शन की होती है. फील्डिंग को तो मैं कभी हलके में नहीं लेता.”

टॉस जीतने के बाद बल्लेबाजी के फैसले के बारे में जडेजा ने कहा, “हम सोच रहे थे कि खुद को चुनौती दें. पहले बल्लेबाजी के दौरान टर्न बहुत मिल रहा था. हम बाद में ओस के साथ गेंदबाजी की चुनौती का सामना करना चाहते थे, ताकि नॉकआउट में ऐसे हालात होने पर तैयार रहें.”

Leave a Comment

Scroll to Top