मालदीव में चीन ने भेजा ‘जासूसी जहाज’ तो भारत ने श्रीलंका में उतारी शक्तिशाली पनडुब्बी, पानी में ड्रैगन को घेरने की तैयारी!

China in Indian Ocean: पिछले कुछ सालों में चीन धीरे-धीरे हिंद महासागर में पैठ बनाने लगा है. इस बात को ध्यान में रखते हुए भारत ने भी अपनी सुरक्षा बढ़ा दी है.

India-China Tensions: भारत और चीन के बीच तनाव किसी से छिपा नहीं है. चीन ने पिछले कुछ सालों में भारत के पड़ोसी मुल्कों में अपनी धाक जमाई है. वह धीरे-धीरे श्रीलंका, मालदीव, पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश जैसे मुल्कों में घुसपैठ कर रहा है, जिससे भारत के लिए सुरक्षा चिंताएं खड़ी हो गई हैं. हालांकि, भारत ने भी इसका माकूल जवाब देना शुरू कर दिया है और ऐसा ही एक करारा जवाब चीन को श्रीलंका में मिला है, जहां भारतीय नौसेना की पनडुब्बी पहुंची है. 

डेक्कन हेराल्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय नौसेना ने पनडुब्बी आईएनएस करंज को श्रीलंका के मुख्य बंदरगाहों में से एक पर भेजा है. इसके जरिए चीन के साथ-साथ मालदीव को भी कड़ा संदेश दिया गया है, जो इन दिनों चीन की गोदी में जाकर बैठा है. आईएनएस करंज शनिवार (3 फरवरी) को ऐसे समय पर श्रीलंका पहुंचा, जब चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की नौसेना का जासूसी जहाज ‘जियांग यांग होंग 3’ मालदीव की ओर बढ़ रहा है. 

श्रीलंकाई नौसेना को दी गई पनडुब्बी की जानकारी

वहीं, भारतीय नौसेना का डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बी आईएनएस करंज जब कोलंबो बंदरगाह पर पहुंचा, तो उसका श्रीलंकाई नौसेना ने औपचारिक स्वागत किया. कोलंबो में नई दिल्ली के राजदूत संतोष झा ने पनडुब्बी का दौरा किया और कमांडिंग ऑफिसर, कमांडर अरुणाभ और उनके क्रू मेंबर्स के साथ बातचीत की. इस दौरान श्रीलंकाई नौसेना के लगभग 100 नॉमिनेटेड कर्मियों को पनडुब्बी के बारे में जानकारी दी गई.

कमांडिंग ऑफिसर ने बाद में श्रीलंकाई नौसेना के पश्चिमी नौसेना क्षेत्र के कमांडर रियर एडमिरल समन परेरा से मुलाकात की. श्रीलंका की राजधानी में भारतीय उच्चायोग की तरफ से जारी किए गए एक प्रेस रिलीज के अनुसार, पनडुब्बी सोमवार को कोलंबो बंदरगाह से रवाना होगी.

चीन को संदेश देना था भारत का मकसद

नौसेना ने श्रीलंका में ऐसे समय में पनडुब्बी की भेजा है, जब श्रीलंका ने रविवार (4 फरवरी) को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाया. भारत के पनडुब्बी भेजने का मकसद हिंद महासागर क्षेत्र में सुरक्षा मुहैया कराने की उसकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है. साथ ही ये चीन को भी संदेश देता है कि भले ही वह हिंद महासागर में अपनी गतिविधियों को बढ़ाते रहे, मगर भारत यहां जवाब देने के लिए तैयार है. भारतीय पनडुब्बी ऐसे समय पर श्रीलंका पहुंची, जब मालदीव की राजधानी माले में चीनी नौसेना का ‘रिसर्च जहाज’ जियांग यांग होंग 3 पहुंच रहा है.

Leave a Comment

Scroll to Top