पीयूष गोयल ने इजरायल-फलस्तीन का जिक्र कर NCP चीफ पर साधा निशाना, ‘परेशान करने वाला है कि शरद पवार जैसे नेता…’

Piyush Goyal On Sharad Pawar: इजरायल और फलस्तीन के चरमपंथी संगठन हमास के बीच हो रही जंग पर एनसीपी चीफ शरद पवार ने पीएम मोदी को घेरा तो केंद्रीय मंत्री पीय़ूष गोयल ने पलटवार किया है.

Israel-Hamas War: इजरायल और फलस्तीन के चरमपंथी संगठन हमास के बीच हो रही जंग पर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के चीफ शरद पवार के बयान को लेकर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने पलटवार किया है. पूर्व मुख्यमंत्री शरद पवार की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर की गई टिप्पणी पर गोयल ने कहा कि उन्हें पहले देश के बारे में सोचना चाहिए. 

बीजेपी के वरिष्ठ नेता पीयूष गोयल ने सोशल मीडिया एक्स पर लिखा, ”ये बहुत परेशान करने वाला है कि शरद पवार जैसे वरिष्ठ नेता इजरायल पर हुए आतंकी हमले पर भारत के रुख को लेकर बेतुके बयान देते हैं. दुनिया के किसी भी हिस्से में आतंकवाद के खतरे की सभी रूपों में निंदा की जानी चाहिए. यह अफ़सोस की बात है कि वो व्यक्ति (शरद पवार) जो देश के रक्षा मंत्री और कई बार मुख्यमंत्री रहे हैं वो आतंक से जुड़े मामले में इतना अनौपचारिक दृष्टिकोण रखते हैं.”

उन्होंने आगे कहा, ”शरद पवार उस सरकार में हिस्सा थे जिसने बटला हाउस एनकाउंटर को लेकर आंसू बहाए. भारतीय धरती पर हमला होने के दौरान सोते रहे. इस सड़ी हुई मानसिकता को रोकना होगा. मुझे उम्मीद है कि शरद पवार कम से कम अब पहले राष्ट्र के बारे में सोचेंगे.” 

इसके बाद शरद पवार की एनसीपी के नेता जयंत पाटिल ने पीयूष गोयल पर पलटवार किया. उन्होंने कहा, ”वो (पीयूष गोयल) पहले देश के विदेश मंत्रालय का फलस्तीन को लेकर बयान देखें. मुझे लगता है कि उन्हें समझ आएगा कि उनकी सरकार (केंद्र सरकार) क्या निर्णय ले रही है.”

शरद पवार ने क्या कहा है?
पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने हाल ही में मुंबई में स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में हुई पदाधिकारियों की बैठक के दौरान फलस्तीन के प्रति अपना समर्थन जताया. उन्होंने कहा, ”इजरायल-फलस्तीन की जंग विश्व शांति के लिए खतरा है. वहां के जमीन और घर फलस्तीन के थे. इजरायल का उस पर कब्जा हो गया.”

उन्होंने आगे पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ”देश के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी की भूमिका फलस्तीन की मदद करने की थी. वर्तमान प्रधानमंत्री (पीएम मोदी) ने दुर्भाग्यपूर्ण तरीके से इजरायल का समर्थन कर मूल स्वामियों का विरोध किया है. एनसीपी की भूमिका स्पष्ट है कि वह मूल मालिकों और मेहनतकशों के पक्ष में हैं.”

पीएम मोदी ने क्या कहा है?
हमास ने सात अक्टूबर की सुबह इजरायल पर अटैक किया था. इसके बाद पीएम मोदी ने सोशल मीडिया एक्स पर इसकी निंदा करते हुए इसे आतंकी हमला करार दिया था. उन्होंने इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू से फोन पर बात कर कहा था कि भारत आपके साथ एकजुटता सा खड़ा है.  

Leave a Comment

Scroll to Top