तेलंगाना, मिजोरम, छत्‍तीसगढ़, राजस्‍थान और मध्‍य प्रदेश में कितनी सीटें, किसकी सरकार, कब होगी कहां पर वोटिंग, हर सवाल से जुड़े जवाब

चुनाव आयोग ने 9 अक्टूबर को पांचो राज्यों के विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान किया था. छत्तीसगढ़ के अलावा बाकी चारों राज्यों- मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम में एक चरण में वोटिंग होगी.

पांच राज्यों- तेलंगाना, मिजोरम, छत्‍तीसगढ़, राजस्‍थान और मध्‍य प्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में दो हफ्तों से भी कम समय रह गया है. 7 नवंबर से वोटिंग शुरू हो जाएगी, 30 नवंबर को आखिरी मतदान होगा और 3 दिसंबर को वोटों की गिनती की जाएगी.

9 अक्टूबर को चुनाव आयोग ने प्रेस कांफ्रेंस कर चुनावों की तारीखों का ऐलान किया था. छत्तीसगढ़ को छोड़कर सभी राज्यों में एक ही चरण में वोटिंग होगी. जैसे-जैसे समय करीब आ रहा है, सियासी हलचलें बढ़ती जा रही हैं. राजनीतिक दलों के साथ आम जनता पर भी चुनावी रंग चढ़ने लगा है. लोग इतने उत्साहित हैं कि चुनाव से जुड़े हर अपडेट पर उनकी नजर है. कहां कब चुनाव होगा, कितने फेज में होगा, कब नतीजे आएंगे, किस राज्य में किसकी सरकार है और कहां कितनी सीटें हैं, पांचों राज्यों के चुनावों से जुड़े ये सभी अपडेट यहां आपको मिलेंगे-कहां कितनी सीटेंसभी राजनीतिक दलों ने लगभग सभी राज्यों के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. अब तक का हाल देखें तो मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सीधे तौर पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस के बीच मुकाबला है. बाकी दो राज्यों तेलंगाना और मिजोरम में क्षेत्रीय दलों का दबदबा है. सीटों की बात करें तो मध्य प्रदेश में कुल 230 विधानसभा सीटें और सरकार बनाने के लिए 116 सीटों पर जीत की जरूरत होती है. छत्तीसगढ़ में सरकार बनाने के लिए राज्य की कुल 90 सीटों में से कुल 46 सीटें जीतनी जरूरी हैं. राजस्थान में 200 विधानसभा सीटें हैं और बहुमत के लिए 100 सीटों का जादुई आंकड़ा हासिल किए बिना सरकार नहीं बन सकती. वहीं, तेलंगाना में 119 सीटें हैं और बहुमत के लिए 60 सीटें जीतना जरूरी है. इसके अलावा, मिजोरम में कुल 40 विधानसभा सीटें हैं और यहां सरकार बनाने के लिए 21 सीटों पर जीत आवश्यक है.किस राज्य में किसकी सरकारपिछले चुनावों को देखें तो मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में बीजेपी और कांग्रेस के बीच मुकाबला रहा है. 2018 के चुनाव में इन तीनों ही राज्यों में बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा था इसलिए पार्टी ने इस बार नया प्रयोग किया है और राज्यों में सांसदों और केंद्रीय मंत्रियों को विधायकी का चुनाव लड़ाने का फैसला किया है. हालांकि, मध्य प्रदेश में दो साल बाद ही कांग्रेस की सरकार गिर गई और शिवराज सिंह चौहान फिर मुख्यमंत्री बने. पिछले चुनाव में कांग्रेस ने 230 में से 114 सीटें जीती थीं, जबकि बीजेपी को 109 पर जीत मिली. बाद में सपा और बीएसपी के समर्थन से कांग्रेस की सरकार बनी और कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाया गया. छत्तीसगढ़ की 90 में से 68 सीटें जीतकर कांग्रेस ने सरकार बनाई थी. 15 सालों से काबिज बीजेपी को पिछले चुनाव में छत्तीसगढ़ में बहुत बुरी हार मिली थी और सिर्फ 15 सीटें ही जीत सकी.

राजस्थान में बीजेपी और कांग्रेस के बीच हर विधानसभा चुनाव में सत्ता परिवर्तन की परंपरा रही है. 2018 में कांग्रेस ने 99 सीटें जीती थीं और अन्य दलों के समर्थन से 100 का जादुई आंकड़ा प्राप्त करके सरकार बनाई. वहां अशोक गहलोत मुख्यमंत्री हैं. इससे पहले 2013 के चुनाव में बीजेपी की सरकार में वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री थीं. तेलंगाना में भारत राष्ट्र समिति की सरकार है और के चंद्रशेखर राव मुख्यमंत्री हैं. पिछले चुनाव में तेलंगाना में बीआरएस की आंधी चली थी और कुल 119 में से 88 सीटें पार्टी के पाले में गई थीं. मिजोरम की कुल 40 में से 26 सीटें जीतकर मिजो नेशनल फ्रंट (MNF) ने सरकार बनाई और जोरमथंगा मुख्यमंत्री बने.कहां कब होगी वोटिंग9 अक्टूबर को चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और मिजोरम के विधानसभा चुनाव में मतदान और मतगणना की तारीखों का ऐलान किया था. मध्य प्रदेश में 17 नवंबर और राजस्थान में 23 नवंबर को वोट डाले जाएंगे. छत्तीसगढ़ में दो फेज में 7 और 17 नवंबर को वोटिंग होगी. मिजोरम में 7 नवंबर को चुनाव होगा, जबकि तेलंगाना में 30 नवंबर को वोटिंग होगी. सभी राज्यों में नतीजों का ऐलान एक ही दिन 3 दिसंबर को किया जाएगा.

Leave a Comment

Scroll to Top