डोनाल्ड ट्रंप अयोग्य: पत्नी, बेटी या कोई और… नया उत्तराधिकारी कौन; जानिए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के सारे समीकरण

अमेरिका के इतिहास में पहली संविधान के 14वें संशोधन की धारा 3 का इस्तेमाल कर किसी उम्मीदवार को  राष्ट्रपति पद के लिए अयोग्य ठहराया गया है.

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को कोलोराडो की सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है. 6 जनवरी 2021 को कैपिटल हिल पर हुए दंगे में डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों की भूमिका को देखते हुए कोर्ट ने साल 2024 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को अयोग्य घोषित कर दिया है. यानि डोनाल्ड ट्रम्प अब 2024 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव की रेस से बाहर हो चुके है.

कोर्ट ने ये फैसला अमेरिकी संविधान के तहत लिया है. रिपोर्ट्स की मानें तो, अमेरिका के इतिहास में पहली संविधान के 14वें संशोधन की धारा 3 का इस्तेमाल कर किसी उम्मीदवार को  राष्ट्रपति पद के लिए अयोग्य ठहराया गया है.

हालांकि ट्रंप ने कोर्ट के इस फैसले में राष्ट्रपति बाइडेन का हाथ बताया है. उन्होंने कहा कि वह इस फैसले को बदलने के लिए अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट का रुख करेंगे. ऐसा करने के लिए उनके पास 4 जनवरी तक का वक्त है.

ऐसे में एक सवाल ये उठता है कि इस फैसले के बाद साल 2024 के चुनाव में राष्ट्रपति पद के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने में जुटे डोनाल्ड ट्रंप का अब आगे क्या होगा, और अगर ट्रंप इस चुनाव से बाहर हो जाते हैं तो बाइडेन की राह कितनी आसान हो जाएगी. 

पहले जानते हैं किस मामले में सुनाया गया है यह फैसला 

अमेरिका में साल 2020 के 3 नवंबर को राष्ट्रपति चुनाव हुआ था. उस चुनाव में जो बाइडेन को 306 और ट्रंप को 232 वोट मिले थे. हालांकि कम वोट मिलने के बाद भी डोनाल्ड ट्रम्प ने हार स्वीकार नहीं किया. उन्होंने काउंटिंग और वोटिंग के दौरान धांधली होने का आरोप लगाया. पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कई राज्यों में केस भी दर्ज कराए. हालांकि ज्यादातर अपील खारिज हो गई. 

6 जनवरी 2021 को अमेरिकी संसद का सत्र चल रहा था और इस दिन अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन की जीत पर आखिरी मुहर लगनी थी. अमेरिकी सत्र में चर्चा के बाद बहुमत के साथ देश के राष्ट्रपति के रूप में बाइडेन की जीत पर मुहर लगाई गई. लेकिन इस दौरान ट्रंप के कुछ सांसद इन नतीजों के विरोध में आ गए और ट्रंप के समर्थकों ने नाराजगी दिखाते हुए संसद पर हमला कर दिया था. यूएस कैपिटल के बाहर इस दिन दोपहर तक बड़े पैमाने पर हिंसा होने लगी थी, इस हिंसा में गोलियां भी चली.

डोनाल्ड ट्रंप अब आगे क्या करेंगे

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार ट्रंप अब कोलोराडो कोर्ट के इस फैसले को अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे. जिसके बाद अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट को यह फैसला करना होगा कि वह ट्रंप के इस केस पर सुनवाई करेंगे या नहीं. 

अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए कौन- कौन खड़ा हो सकता है 

अमेरिकी संविधान के आर्टिकल 2 के सेक्शन 1 में इस देश के राष्ट्रपति चुनाव की जानकारी विस्तार में दी गई है. इसके अनुसार तीन प्रमुख बातों का ध्यान रखा गया है जिसके तहत इस देश के चुनाव की नींव पड़ती है. इस नियम के अनुसार अगर कोई व्यक्ति अमेरिका का राष्ट्रपति बनना चाहता है उसे तीन शर्तों को पूरा करना जरूरी है.

क्या ट्रंप अपने परिवार में से किसी को उम्मीदवार बनाएंगे

डोनाल्ड ट्रंप का परिवार बहुत बड़ा है. उन्होंने तीन शादियां की हैं. पहली पत्नी का नाम इवाना जेल्वीकोवा, दूसरी का नाम मार्ला मेपल्स और तीसरी का नाम मेलानिया ट्रंप है. 

ट्रंप की पहली पत्नी इवाना जेल्वीकोवा पेशे से ओलंपिक खिलाड़ी थीं. उन्होंने साल 1977 में ट्रंप से शादी की. अब उनके तीन बच्चे हैं, डोनाल्ड ट्रंप जूनियर, इवांका और एरिक. 

ट्रंप ने दूसरी शादी साल 1993 में मार्ला मेपल्स से की. मार्ला मेपल्स पेशे से अभिनेत्री हैं. उन दोनों का एक बेटा टिफनी है. साल 1995 में डोनाल्ड ट्रंप ने तीसरी शादी की, नाम है मेलानिया. मेलानिया ट्रंप पेशे से मॉडल हैं और दोनों का एक बेटा बैरन है.

उम्मीदवार के तौर पर ट्रंप के परिवार से आने वाले नाम 

  • बैरन ट्रंप
  • जैरेड कुशनर (इवांका ट्रंप के पति )
  • टिफनी ट्रंप
  • इवांका ट्रंप
  • डोनाल्ड ट्रंप जूनियर
  • एरिक ट्रंप

अब ऊपर बताए गए नियम के अनुसार तो डोनाल्ड ट्रंप अपने परिवार के किसी व्यक्ति को उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतार सकते हैं. उनके परिवार के अन्य सदस्यों में इवांका ट्रंप ही सबसे ज्यादा राजनीति में सक्रिय रही है. लेकिन, साल 2022 में सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म पर अपने एक पोस्ट के जरिए डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप इस बात की घोषणा कर चुकी हैं कि उनका भविष्य में राजनीति में आने का कोई प्लान नहीं है.

अब बाइडेन की राह कितनी आसान है?

हाल ही में सीएनएन का एक सर्वे सामने आया है कि जिसके अनुसार अमेरिका चुनाव के दौरान कुछ राज्यों में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन से आगे रहे हैं. इस सर्वे के अनुसार एरिजोना, मिशिगन, जॉर्जिया, नेवादा, विस्कॉन्सिन और पेंसिल्वेनिया में ट्रंप लोगों की पहली पसंद बने हुए हैं. 

ये वही राज्य हैं जहां साल 2020 के चुनाव में ट्रंप की हार हुई  थी. लेकिन पांच साल बाद 2024 में होने वाले चुनाव में ट्रंप को जो बाइडेन से 5 प्रतिशत वोट ज्यादा मिलने की आशंका जताई गई है. इसके अलावा मिशिगन में ट्रंप को बाइडेन से 10 प्रतिशत ज्यादा वोट मिल सकता है. 

ऐसे में अगर डोनाल्ड ट्रंप वाकई इस बार राष्ट्रपति चुनाव से आउट होते हैं तो अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के लिए जीत हासिल करना आसान हो जाएगा. फिलहाल अमेरिका के लोगों के पास ट्रंप नाम का एक ऐसा चेहरा है जिसकी लोकप्रियता अन्य देशों में भी है.  

ट्रंप के इस चुनाव में होने से बाइडेन को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता. उदाहरण के तौर पर जो बाइडेन की नीतियों को लेकर अमेरिका में काफी नाराजगी है. यहां की जनता का मानना है कि घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों ही जगह पर बाइडेन की नीतियां कारगर साबित नहीं हुईं. इसके अलावा आर्थिक मामलों में भी वर्तमान राष्ट्रपति की नीतियां अमेरिकी जनता को बहुत हद तक रास नहीं आई है.

ट्रंप ने कोर्ट के फैसले के पीछे बताया बाइडेन का हाथ 

कोर्ट के इस फैसले के बाद से ही डोनाल्ड ट्रंप ने इसके पीछे वर्तमान राष्ट्रपति बाइडेन का हाथ बताया है. उन्होंने कहा कि बाइडेन चुनाव में बाधा डालना चाहते हैं क्योंकि उन्हें पता है कि इस बार चुनाव होते हैं तो बाइडेन की हार होगी और यही कारण है कि वह जीत पाने के लिए अमेरिकी संविधान के उल्लंघन करने तक के लिए तैयार हैं. 

इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप ने एक चुनावी रैली में दावा किया था कि आने वाले चुनाव में जनता उन्हें बड़े मार्जिन से जीत दिलाएगी. उन्होंने कहा था कि उन्हें 150 मिलियन लोगों का समर्थन मिल रहा है. जबकि इसी तरह एक रैली में वर्तमान राष्ट्रपति जो बाइडेन भी कह चुके हैं कि वह साल 2024 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव का हिस्सा नहीं बनने वाले थे. लेकिन, ट्रंप के चुनाव में उतरने के बाद उन्हें यह फैसला लेना पड़ा. 

Leave a Comment

Scroll to Top